ग्लुकॉनडी

४:५५ म.उ. Kedar Bhope 0 Comments

गंपू : (मुलीकडे बघून) चलते चलते यूँही रुक जाता हूँ मैं... बैठे बैठे यूँही खो जाता हूँ मैं.... क्या यहीं प्यार हैं?
मुलगी : नाही.. तुला अशक्तपणा आलाय.... ग्लुकॉनडी पी....... 0

0 टिप्पणी(ण्या):